आपके बच्चे के पास भी है स्मार्टफोन तो हो जाएं सावधान नहीं तो…

0
197

आज के समय में देखा जा रहा है कि छोटे हो या बड़े हर किसी के हाथ में स्मार्टफोन होता है। आए दिन बच्चों को मां बाप खुद फोन थमा देते हैं। बच्चों को चुप करवाने के लिए या खेल-खेल में उन्हें स्मार्टफोन पकड़ा देते हैं। ऐसे में आप कहीं बच्चों को चुप करवाने के लिए स्मार्टफोन दे देते है। अगर हां तो आपतो सावधान होने की बेहद जरूरत है।

हाल ही में आई रिसर्च के मुताबिक, बच्चों को स्मार्टफोन देना बिल्कुल वैसा ही है जैसे किसी को ड्रग्स दिए जाते हैं।

इस रिसर्च की मानें तो बच्चों को स्मार्टफोन देना कोकीन जैसी नशीली चीज देने के बराबर है और ऐसा करके आप बच्चों को इस एडिक्शन की तरफ धकेल रहे हैं।

रिसर्च में ये भी पाया गया कि जो बच्चे स्मार्टफोन के साथ खेलते हैं वे पेरेंट्स के साथ बहुत ही कम समय बिताते हैं।टेक्नोलॉजी के संपर्क में आने से बच्‍चों का मानसिक विकास ठीक से नहीं हो पाता और ऐसे बच्चों का दिमाग कमजोर होता है।स्मार्टफोन के साथ खेलने वाले बच्चों की क्रिएटिविटी भी इफेक्ट होती है।

यानि बच्चे क्रिएटिव नहीं होते और वे सही से निर्णय भी नहीं ले पाते।रिसर्च में ये बात भी सामने आई कि ऐसे बच्चे कम फीजिकल एक्टिविटी करते हैं जिससे उनकी शारीरिक विकास भी प्रभावित होता है।

Loading...
loading...

Leave a Reply