टीपू सुल्तान और उनका फ़्रांस से कनेक्शन

फ़्रांस और भारत के रिश्ते अब सु्‍धर रहे हैं और ये तो देखने को मिल ही रहा है, फ़्रांस के राष्ट्रपति अभी भारत आए हुए हैं अपनी पत्नी के साथ। लेकिन ये रिश्ता आज का नहीं बल्कि काफी पुराना है।

मोहम्मद अली से मिले एक संदेश के बाद हैदर अली को वहां भेजा गया था। मोहम्मद अली ने हैदर अली से वादा किया था कि उन्हें छुड़ाने पर वह तिरुचिरापल्ली का क़िला हैदर अली को दे देंगे। लेकिन, हैदर अली को जब पता चला कि मोहम्मद अलीक़िला देने वाली अपनी बात पर क़ायम नहीं रहेंगे तो वहफ़्रांसीसियों के क़रीब आ गये। कर्नाटक और गोवा के दो विश्वविद्यालयों और टीपू सुल्तानपर एक प्राधिकरण के पूर्व उपाध्यक्ष प्रोफ़ेसर बी शेख अली ने कहा, ”इस तरह संबंधों की शुरुआत हुई थी. उनके बीच दोस्ती गहरी हो गई थी. इसका सीधा सा कारण एक सिद्धांत था कि दुश्मन का दुश्मन, दोस्त होता है। ”

टीपू चेयर, मैसूर विश्वविद्याल में विजिटिंग प्रोफ़ेसर सेबेस्टीयन जोसेफ़ ने कहा, ”टीपू सुल्तान ने फ़्रांसीसी भाषा सीखी थी और फ़्रांसीसी अधिकारियों से उन्हीं की भाषा में बात करते थे. वह लोकतांत्रित सिद्धांतों की बातभी करते थे।”

इस तरह से पता चलता है कि ये रिश्ता कितना पुराना है।

Loading...

Shristi Thakur

Related Posts

भारत ब्रिटिश शासन के अधीन होता तो अच्छा होता: मार्क एंड्रीसन, न्यूट्रैलिटी पर भारत का फैसला गलत,

Comments Off on भारत ब्रिटिश शासन के अधीन होता तो अच्छा होता: मार्क एंड्रीसन, न्यूट्रैलिटी पर भारत का फैसला गलत,

अब मनीश तिवारी ऐसे बयां देंगे तो क्यों न कहें के वो कांग्रेस के चापलूस हैं।

Comments Off on अब मनीश तिवारी ऐसे बयां देंगे तो क्यों न कहें के वो कांग्रेस के चापलूस हैं।

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account