MSME के विकास के लिए एनएसआईसी और पॉवर टू एसएमई ने मिलाया हाथ 

0
47
लघु उद्यम और लघु उद्यमियों को बढ़ावा देने के लिए स्थापित राष्ट्रीय लघु उद्योग निगम एनएसआईसी ने केमिकल, इंक मेटल पॉलीमर जैसे कच्चे माल को किफायती मूल्यों पर जुटाने के लिए और एमएसएमई को और अधिक सुविधाएं मुहैया कराने के लिए आज भारत की पहली बाइंग क्लब मैसर्स पॉवर टू एसएमई के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया। इस समझौता ज्ञापन पर एनएसआईसी के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक रविन्द्र नाथ और पॉवर टू एसएम्ई के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं फिक्की के उपाध्यक्ष आर नारायण ने हस्ताक्षर किया।
इस समझौते के बाद कंपनियों के लिए कच्चे माल के समृद्ध भंडार को देश भर के एमएसएमईज के कार्यस्थलों तक पहुंचाने में आसानी होगी। यह पहल एमएसएमईज के कारोबार में यह काफी सहायक सिद्ध होगा। इस मौके पर एनएसआईसी के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक रविंद्र ने कहा कि एनएसआईसी देश में सूक्ष्म, छोटे और मध्यम उद्यमों के विकास को बढ़ावा देने, सहायता और बढ़ावा देने के लिए काम कर रहा है और हम विभिन्न स्कीमों के माध्यम से सूक्ष्म, माध्यम और लघु उद्योगों की सहायता करने में सबसे आगे हैं।
एनएसआईसी और मैसर्स पॉवर टू एसएमई भारत के एमएसएमईज को लागत प्रतिस्पर्धी बनाते हुए उन्हें सशक्त बनाने और उनका तीव्र गति से विकास करने के लिए प्रेरित करेंगे। उन्होंने कहा कि हमारे पास देश विदेश में विशाल नेटवर्क है। हमारे विशाल नेटवर्क और विशेषज्ञता तथा पॉवर टू एसएमई के सेवाओं का लाभ एमएसएमईज को मिलेगा।
इस मौके पर पॉवर टू एसएम्ई के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं फिक्की के उपाध्यक्ष आर नारायण ने कहा कि पावर टू एसएमई भारतीय एसएमई के लिए पहला खरीदारी क्लब है, हमारा लक्ष्य एमएसएमईज का विकास के लिए सशक्त बनाना है। हमारा मुख्य कार्यालय गुरुग्राम में है और पॉवर टू एसएमई का नेटवर्क मुंबई, चेन्नई, कोलकाता, अहमदाबाद और पुणे जैसे महानगरों में भी फैला है।  हमारा उदेश्य एमएसएमईज को अधिक से अधिक सुविधाएं मुहैया करना है। इस प्रयास के तहत खासकर हमारा प्रयास सूक्ष्म और लघु उद्योगों को सहायता प्रदान करना है।
Loading...
loading...

Leave a Reply