सिम कार्ड के ऊपर लिखे 19 डिजिट का मतलब जाने

सिम कार्ड के ऊपर लिखे 19 डिजिट का मतलब जाने

हम सब मोबाइल यूज़ करते हैं और हम सब के पास सिम कार्ड होता ही है। लेकिन क्या आपने गौर किया है कि आपके सिम कार्ड के ऊपर 19 डिजिट का एक नंबर लिखा होता है। अगर गौर किया है तो ये सोचा है कि ये क्यू होता है? आज हम आपको इसी 19 डिजिट की जानकारी दे रहे हैं कि आखिर वो क्यू लिखा होता है और इसके जरिए हम क्या क्या जान सकते हैं। इस 19 डिजिट मे मोबाइल नंबर से लेकर टेलीकॉम ऑपरेटर तक की जानकारी होती है। इसके बारे सब को होनी चाहिए। ये एक्सपर्ट से प्राप्त जानकारी है।

अगर आपके सिम कार्ड पर U लिखा है तो वो सिम हर नेटवर्क पर काम करेगी। सिम के ऊपर लिखे पहले दो डिजिट में इंडस्ट्री कोड होता है। इन दो डिजिट का चयन ITU करती है,  जिसका पूरा नाम इंटरनेशनल टेलीकॉम यूनियन है। ITU एक वर्ल्ड ऑर्गनाइजेशन है। उसके बाद जो दूसरा दो डिजिट होता है वो कंट्री कोड होता है। इसे MCC कहते हैं यानी कि मोबाइल कंट्री कोड। इसको देखकर ये जाना जा सकता है कि सिम किस देश का है। इसके बाद जो भी अगला दो डिजिट होता है उसे इशूअर नंबर कहते हैं। ये नंबर टेलीकॉम इंडस्ट्री जारी करती है। हर राज्य का इशूअर नंबर अलग होता है। 

अगले बारह डिजिट को सिम नंबर कहा जाता है। इसको कस्टमर आईडेंनटीडी नंबर कहा जाता है। इस नंबर को यूज़ करके ही टेलीकॉम कंपनी बाद मे मोबाइल नंबर चढ़ाती है। और यही वो नंबर है जिसकी वजह से मोबाइल रिकॉर्ड का पता चलता है। उसके बाद जो आख़िरी नंबर होता है उसको चेकसम कहा जाता है। यह नंबर शुरूआत के 18 डिजिट को जोड़कर बनता है।

इस सबके आलावा सिम के ऊपर लास्ट मे एक अल्फाबेट लिखा होता है। अगर वो अल्फाबेट U हो तो इसका मतलब यह है कि वो यूनिवर्सल सिम है,  यानी कि उसे 2G या 4G किसी भी नेटवर्क मे यूज़ किया जा सकता है। जो सिम हर नेटवर्क पर काम नहीं कर सकती उसके ऊपर H लिखा होता है।

Loading...

Leave a Reply