भारत अफ्रीका में 1.25 अरब रुपए निवेश करेगा

0
306
views

प्रियंका तिवारी : भारतीय निर्यात-आयात बैंक (एक्ज़िम बैंक) ने भारत और अफ्रीका के मध्य व्यापार को बढ़ाने के लिए सत्र का आयोजन किया, जिसमें अफ्रीकी विकास बैंक (एएफडीबी) के अध्यक्ष डॉ. अकिनूमी एडिसिना ने भी हिस्सा लिया। एडिसिना फ़िलहाल भारत में चार दिवसीय यात्रा पर हैं, इस यात्रा का उदेश्य एएफडीबी के महत्त्वाकांक्षी 5 सूत्रीय विकास एजेंडा के लिए भागीदार तलाशना है, जिससे अफ्रीका हर क्षेत्र में विकास करे। एक्ज़िम बैंक ने इन्हें नाम दिया है ‘हाई फाइव्स’: रोशन और ऊर्जासम अफ्रीका, पोषित अफ्रीका, उद्योगमय अफ्रीका, एकीकृत अफ्रीका और बेतहर जीवनशैली वाला अफ्रीका।

जीडीपी का 2.5 फीसदी स्वास्थ सेवाओं पर खर्च करेगी सरकार

एएफडीबी के 5 सूत्रीय विकास एजेंडा को लेकर एक्ज़िम बैंक के प्रबंध निदेशक डेविड रस्कीना ने कहा कि अफ्रीकी विकास बैंक समूह (एएफडीबी) के अध्यक्ष डॉ. अकिनूमी एडिसिना और बैंक के वरिष्ठ अधिकारियों के इस दौरे का उद्देश्य अफ्रीका और भारत के संबंधों को मजबूत करते हुए एएफडीबी और भारत के संबंधों को भी विस्तार देना है। एएफडीबी ने बिजली, ऊर्जा और हरित विकास, कृषि, मानव और सामाजिक विकास, इंफ्रास्ट्रक्चर और रियल एस्टेट, स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र, शिक्षा और औद्योगीकरण पर फोकस करते हुए व्यवसाय का एक नया मॉडल अपनाया है। 2016 में भारत ने अफ्रीकी विकास फंड के लिए 14वीं सहयोग किस्त के रूप में 18.09 मिलियन यूएस डॉलर (1.25 अरब रुपए) और 14.94 मिलियन यूएस डॉलर का ब्रिज लोन देने का वादा किया था। भारत ने अफ्रीका में करीब 7.4 बिलियन यूएस डॉलर का निवेश किया है, जो मुख्यतः भारतीय निर्यात-आयात बैंक के जरिए ऋण-व्यवस्थाओं के रूप में हुआ है। ये ऋण-व्यवस्थाएं पूरे अफ्रीका में विभिन्न परियोजनाओं के लिए दी गई हैं।

अब महंगी दवाएं लिखने वाले डॉक्टरों की खैर नहीं, पढ़िये क्या करने वाली है मोदी सरकार ?

इस बारे में डॉ. एडिसिना और उनका प्रतिनिधिमंडल केंद्रीय वित्त मंत्री एवं भारत में एएफडीबी के गवर्नर अरुण जेटली से तथा भारत सरकार के अन्य प्रमुख सदस्यों से भी चर्चा करने वाला है। इस यात्रा के दौरान उनका प्रतिनिधिमंडल भारत से सहयोग की संभावनाएं तलाशने के साथ-साथ अहमदाबाद में एएफडीबी समूह की 22-26 मई तक होने वाली 2017 की वार्षिक बैठक की तैयारियों का जायजा लेगा। डॉ. एडिसिना और उनकी टीम नई दिल्ली में अफ्रीकी राजनयिकों से भी मिलेंगे। वे ब्रिक्स देशों (ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका) द्वारा ढांचागत विकास के लिए स्थापित न्यू डेवलपमेंट बैंक (एनडीबी) की दूसरी वार्षिक बैठक के उद्घाटन समारोह में भी हिस्सा लेंगे।

Loading...

Leave a Reply