fbpx

भीमा कोरेगाँव हिंसा की वजह से पूरे महाराष्ट्र में जीवन अस्त-व्यस्त हो चुका है, शहर हो चुका है बंद

महाराष्ट्र में भड़के हिंसा की वजह से लोग बहुत परेशान हैं। उनकी जिन्दगी पूरी उथल पुथल हो चुकी है। पूरा महाराष्ट्र बंद हो चुका।और महाराष्ट्र जैसे शहर में ऐसा कुछ होना बहुत बड़ी बात है। यह बंद कोरेगाँव हिंसा की वजह से हुई है। दरअसल हुआ ये था कि कोरेगाँव में एक समारोह के दौरान भड़की हिंसा में एक दलित की मौत हो गई और ये हिंसा काफी घातक हो गई। यह समारोह हर साल मनाया जाता है। इस समारोह को इसलिए मनाया जाता है क्यू की 1 जनवरी 1818 में, अछूत माने जाने वाले तमगे ने, ब्रह्मण पेशवा बजीराव के कई सैनिको को हरा दिया था।

इस हिंसा का असर पूरे महाराष्ट्र में नजर आने लगा है। आम जीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है। लोग विरोध प्रदर्शन के दौरान लोगो ने रास्ते जाम किए। ये कार्य मुंबई और पुणे दोनों ही जगह हुआ है। लोगो ने पत्थरबाजी की, आग लगा दी। करीब 176 बसों में तोड़फोड़ किया। हालात इतने बिगड़ गए कि पुणे में आज मुख्यमंत्री का दौरा होने वाला था। उस दौरे को भी आज रद्द कर दिया गया। औरंगाबाद में भी धारा 144 लगा दिया गया। राज्य सरकार ने मृतक के परिजनों को मुआवजा देने की घोषणा की है। और साथ ही इस घटना की पूरी जांच करने का भी आदेश दिया है।

Loading...

इस घटना की वजह से भड़की हिंसा की वजह से लोगो की पूरी दिनचर्या प्रभावित हुई है। सरकारी बस बंद थे। लोकल ट्रेन सेवा भी बंद थी।  प्रदर्शनकारियों ने रेल्वे ट्रैक को भी जाम कर रखा था। इंटरनेट सेवाओं भी बंद कर दी गई। इस सब के बीच सियासत अपना खेल, खेल रही है। नेता अपनी ही तरह से इसका फायदा उठा रहे हैं और दलित के ऊपर राजनीति कर रहे हैं। इसकी वजह से संसद में भी संग्राम हो गया है। अब इससे और क्या क्या होता है अब यही देखना बाकी है।

Leave a Reply

Loading...