हर किसी को मुकम्मल जहां नहीं मिलता

0
533
views
 
तब्बू बॉलीवुड की उन प्रतिभाशाली अभिनेत्रियों में से हैं, जिन्हें जहां जगह मिली, वहीं फिट हो गईं. उन्होंने अपने करियर में कभी विजयपथ और बीवी नंबर वन जैसी कॉमर्शियल फिल्में कीं, तो कभी चांदनी बार और अस्तित्व जैसी लीक से हट कर फिल्मों में अभिनय का लोहा मनवाया.
 
आम बॉलीवुड अभिनेत्रियों से बेहद अलग हैं तब्बू. उनके बारे में काफी कम पढ़ने, देखने और सुनने को मिलता है. वह टेलीविजन पर कम आती हैं, मीडिया से भी दूर रहती हैं. स्वभाव से भी बेहद शांत और एकांत पसंद हैं तब्बू. विजय पथ की दिलफेंक रुक-रुक गर्ल, साजन चले ससुराल में गोविंदा की दूसरी पत्नी, माचिस में सिख बग़ावत में फंसी परेशान पंजाबी लड़की से लेकर, कई फिल्मों में संजीदा माशूका तक हर तरह के किरदार को उन्होंने इस तरह निभाया कि वह पर्दे पर जीवंत हो उठा.
फिल्मों में आदर्श प्रेमिका और पत्नी का किरदार निभाने वाली तब्बू अपने असल जीवन में इन रिश्तों से अंजान ही रहीं. 44 साल की तब्बू अब तो यहां तक कहती हैं कि डॉन्ट आस्क मी अबाउट मैरिज. हालांकि तब्बू ने शादी करनी चाही. अपनी गृहस्थी बसानी चाही, पर इसमें वह कामयाब नहीं हो पाईं. वह प्यार में तो यकीन करती हैं, लेकिन शादी को लेकर वह किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंच पाईं. काफी लंबे समय तक वह प्रोड्यूसर साजिद नाडियाडवाला के साथ रिलेशनशिप में रहीं, लेकिन उन दोनों का रिश्ता शादी तक नहीं पहुंच पाया. दरअसल, साजिद अभिनेत्री दिव्या भारती के पति थे और तब्बू दिव्या की काफी अच्छी दोस्त थीं. उस दौरान साजिद और तब्बू दोनों ही दिव्या भारती के मौत के सदमें में थे. तभी साजिद ने अपने होम प्रोडक्शन की पहली फिल्म जीत में तब्बू को कास्ट किया. फिल्म के शूटिंग के दौरान ही दोनों करीब आए. एक इंटरव्यू के दौरान साजिद ने कहा कि यह पहली नजर का प्यार नहीं था, बल्कि एक-दूसरे के लिए फिलिंग धीरे-धीरे डेवलप हुई. दोनों का रिश्ता इतना आगे ब़ढा की उन्होंने सगाई भी कर ली. पर कहीं न कहीं, तब्बू इस बात से बाहर नहीं निकल पा रही थीं कि वह साजिद के जीवन में दूसरी औरत हैं और वह भी उस आदमी के जीवन में, जो उनके मरहूम दोस्त का पति है. यही वह समय था, जब उनके जीवन में नागार्जुन आए. दोनों की नजदीकियां ब़ढती जा रही थीं. इस बात से साजिद काफी दुखी थे. इधर, साजिद का परिवार भी नागार्जुन के साथ तब्बू के रिश्ते को स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं था. परिस्थितियों को देखते हुए साजिद ने अपनी मंगेतर तब्बू के साथ अपने रिश्ते को कुछ और समय दिया. उसी दौरान तब्बू नागार्जुन के साथ एक महीन के लिए अमेरिका चली गईं. इस एक महीने में तब्बू ने एक बार भी साजिद से संपर्क नहीं किया. तब्बू का सेके्रटरी और उनका परिवार भी तब्बू का कोई कॉन्टैक्ट नंबर साजिद को उपल्ब्ध नहीं करा सका. इस घटना के बाद दोनों का बे्रकअप हो गया. साजिद ने शादी कर ली और आज वह खुशहाल शादीशुदा जिंदगी जी रहे हैं, लेकिन आज भी तब्बू और साजिद अच्छे मित्र हैं. उधर, नागार्जुन के साथ रिश्ते में तब्बू इतना आगे ब़ढ चुकी थीं कि उन्होंेने निर्णय लिया कि वह हैदराबाद में ही शिफ्ट हो जाएंगी. बाद में यह भी खबरें आईं कि नागार्जुन उनके लिए सुटेबल एरिया में फ्लैट देख रहे हैं और तब्बू के लिए उन्होंने जुबली हिल्स एरिया सेलेक्ट किया है. उनके रिश्ते ने मीडिया में खुब सुर्खियां बटोरीं, जिसके बाद तब्बू वापस मुंबई शिफ्ट हो गईं. तब्बू मानती हैं कि नागार्जुन के लिए उनकी जिंदगी में खास जगह है, लेकिन नागार्जुन उन्हें एक मुक्कमल जहां नहीं दे सकते थे. वह उनसे शादी नहीं कर सकते थे. तब्बू से लगभग 10 साल बड़े नागार्जुन की पहली शादी प्रोड्यूसर रामा नायडू की बेटी लक्ष्मी से हुई थी. उनसे डायवोर्स के बाद उन्होंने अभिनेत्री अमला से शादी की. नागार्जन और लक्ष्मी से एक बेटा नागा चैतन्य है और अमला से उन्हें एक बेटा अखिल है. तब्बू ने खुद से समझौता कर लिया. वह आज भी मन से नागार्जुन के साथ हैं. नागार्जुन तब्बू के लिए अपनी बसी-बसाई गृहस्थी नहीं तोड़ सकते थे. यह एक मूक समझौता था तब्बू के लिए, जिसमें उन्होंने अकेले ही रहना पसंद किया. हालांकि उनके इस निर्णय के पीछे एक वजह और भी हो सकता है, उनका रिश्तों पर से यकीन खत्म हो जाना. उन्होंने अपनी मां और अपनी बहन फराहा की  तलाकशुदा जिंदगी देखी थी. जब वह बेहद छोटी थीं, तभी उनके पिता ने उनकी मां को तलाक दे दिया था. उनकी बहन फराहा को भी अभिनेता बिंदू दारा सिंह ने तलाक देकर दूसरी शादी कर ली थी.
तब्बू एक बेहद संवेदनशील अभिनेत्री हैं. 4 नवंबर, 1971 को जन्मी तब्बू का असली नाम तब्बसुम हासमी है. तब्बू के जन्म के कुछ समय बाद ही उनके माता-पिता अलग हो गए. उनकी मां स्कूल शिक्षिका थीं. उन्होंने शुरुआती प़ढाई हैदराबाद में की और आगे की प़ढाई उन्होंने सेंट जेवियर स्कूल से की. अभिनेत्री शबाना आजमी उनकी आंट हैं. मात्र 9 साल की उम्र में उन्होंने फिल्म बाजार में काम किया. 14 साल की उम्र में उन्होंने हम नौजवां में काम किया, इस फिल्म में वह देव आनंद की बेटी की भूमिका में थीं. एक अभिनेत्री के तौर पर उनकी पहली फिल्म तेलगु में कुली नंबर वन थी. इसमें उनके अपोजिट थे वेंकटेश. बोनी कपूर ने उन्हें लेकर एक फिल्म बनाई प्रेम. इस फिल्म में उनके हीरो थे संजय कपूर. उसी दौरान वह रूप की रानी और चोरों का राजा भी बना रहे थे. फिल्म के निर्माण में कुल आठ साल का समय लगा. यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह फ्लॉप हुई. यह बोनी कपूर के करियर की सबसे ब़डी फ्लॉप फिल्म थी. इसके बाद उन्हें दूसरी फिल्म मिलने में काफी समय लगा. उन्हें कामयाबी मिली अजय देवगन के साथ फिल्म विजय पथ से. इस फिल्म के लिए उन्हें फिल्म फेयर का बेस्ट फिमेल डेब्यू अवॉर्ड भी मिला. इसके बाद उन्होंने पीछे म़ुडकर नहीं देखा. उनकी फिल्में एक के बाद एक हिट होती गईं. उन्होंने तेलुगू, तमिल, मलयालम, मराठी, बंगला और हॉलीवुड फिल्में भी कीं. उन्होंने सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का फिल्म फेयर अवॉर्ड भी मिल चुका है. हालांकि आपको जानकर हैरानी होगी की, जब उन्होंने बॉलीवुड में शुरुआत किया था, तब उन्हें फिल्मकार यह कह कर भी फिल्में नहीं देते थे कि वह काफी लंबी हैं. तब्बू बिना रुके-थके आज भी फिल्मों में काम कर रही हैं. वह कहती है कि वह वही फिल्में करना पसंद करती हैं, जिनमें उनकी भूमिका उन्हें पसंद आती है या फिल्म की यूनिट उन्हें पसंद आती है. वह हॉलीवुड, बॉलीवुड, तमिल और बंग्ला फिल्मों में सक्रिय हैं. बॉलीवुड में सलमान की फिल्म मेंटल में वह सलमान की बहन की भूमिका में नजर आएंगी. गौरतलब है कि वह इससे पहले सलमान की भाभी की भूमिका में फिल्म साथ-साथ में नजर आ चुकी हैं.
Loading...
loading...

Leave a Reply