साउथ दिल्ली में महिलएं सुरक्षित नहीं

0
551
views

दिल्ली का सबसे पॉस इलाक ा है साउथ दिल्ली। हाल ही में जारी हुए दिल्ली पुलिस के आकड़ों के मुताबिक इस इलाके में सबसे ज्यादा महिलाओं से संबंधित आपराधिक वारदात होते हैं। पांच सालों का रिकॉर्ड देखें तो यहां कई बडेÞ छोटे वारदात हुए हैं। आखिर क्या वजह है कि दिल्ली की शान कहे जाने वाले इस इलाके में महिलाएं सबसे ज्यादा असुरक्षित हैं।

्रसाउथ दिल्ली को यंगिस्तान कहा जाता है। मानो दिल्ली की सारी खूबसूरती यहीं सिमट आई हो। यहां की शामें काफी खूबसूरत होती हैं। फैशन को दिल्ली में देखना हो तो आप साउथ दिल्ली का रूख कर सकते हैं। यहां आपको डिस्क, बार, पब और शॉपिंग डेस्टिनेशन सबकुछ मिलेगा। दिल्ली का अपना ऐतिहासिक महत्व है। हौज खास, कुतुब मिनार और तुगलका बाद जैसे प्राचीन स्थल जहां पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र हैं तो वहीं नए बनें स्थलों में लोटस टेंपल, चतरपुर मंदिर, कालिंदी कुंज, लोधी गार्डेन, दिल्ली हाट और सरोजनी नगर जैसे जगह लोगों के आकर्षक का केंद्र हैं। इसके अलावा, यह क्षेत्र एक बडेÞ एजुकेशन हब के रूप में जाना जाता है। आईआईटी दिल्ली, जवाहर लाल नेहरू युनिवर्सिटी, दिल्ली युनिवर्सिटी, साउथ कैंपस, नेशनल इंस्टीट्यूट आॅफ फैशन टेक्नॉलॉजी जैसे बडेÞ संस्थान यही पर हैं।

लेकिन हाल के कुछ सालों में साउथ दिल्ली का एक ऐसा चेहरा उभरकर सामने आया है, जो बेहद शर्मनाक है। ना सिर्फ दिल्ली बल्कि पूरे देश को शर्मशार करने वाली दामिनी रेप केस यहां हुआ। यह अकेला माामला नहीं है जो इस क्षेत्र में घटा। बीते वर्ष दिल्ली के हजरत निजामुद्दीन इलाके में शाम 4 बजे के करीब दो महिलाओं के साथ न केवल छेड़खानी हुई, बल्कि उनके से एक 21 वर्षीय लड़की के कपड़े भी फाड़ दिया गया। वह लड़की अपनी बुआ के साथ स्कूटी से जा रहीं थी, तब एक मोटरसाइकिल सवार ने उसकी स्कूटी में टक्कर मार दी और दोनों महिलाओं से बदतमीजी करने लगा। धौला कुआं में बीपीओ में काम करने वाली एक लड़की के साथ रेप हुआ, जिसके लिए साउथ दिल्ली की पुलिस की लापरवाही बताई गई। लड़की के कैब से उतरने के तुरंत बाद उसे अगवा कर लिया गया। उसकी सहेली तुरंत पुलिस को फोन किया, लेकिन पुलिस ने कोई तत्परता नहीं दिखाई। दिल्ली पुलिस द्वारा जारी किए गए आकड़ों की माने तो महिलाओं के लिए यह जगह सबसे असुरक्षित है। दिल्ली पुलिस की रिपोर्ट के मुताबिक साल 2014 में रेप और छेड़खानी के सबसे ज्यादा मामले साउथ दिल्ली में ही दर्ज किए गए हैं। इस साल वसंत विहार(15), मालवीय नगर(14), वसंत कुंज नॉर्थ(13), मेहरौली(12) और शाहबाद डेयरी (11) में रेप के सर्वाधिक मामले दर्ज हुए।

यहां के स्थनीय लोगों का कहना है कि यहां के रस वाली जगहों सिरी फोर्ट स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स, गुलमोहर पार्क, सर्वप्रिय विहार, पद्मिनी एन्क्लेव और ग्रीन पार्क जैसे इलाकों में लाइटिंग और पब्लिक ट्रांसपोर्ट की बड़ी समस्या है। यहां ज्यादातर एरिया सुनसान है और पुलिस पेट्रोलिंग भी काफी कम है। ऐसे में अपराधियों को भागने का मौका मिल जाता है।  दरअसल साउथ दिल्ली काफी पॉस है, लेकिन इसके आास पास के इलाके  अभी भी इतने विकसित नहीं हैं। दूसरे शहरों से आने वाली कामकाजी लडकियां अक्सर इन सस्ते इलाकों में रहती हैं। वे छोटे कपडे पहनती हैं। कई बार यह उनके प्रोफेशन की डिमांड भी होती है। देर रात आॅफिस से घर आती हैं।  ऐसे में इन इलाकों में रहने वाले मेल इन लडकियों को लेकर सोचते हैं कि ये लडकियां स्वछंद हैं।

साउथ एक्स सेफ नहीं है, इसीलिए अकेले देर रात धर से बाहर रहने से हम बचते हैं। और अगर जाना जरूरी हो तो परिवार के किसी सदस्य के साथ ही बाहर जाते हैं। यहां पब्लिक प्लेसेज पर लडकियों के साथ छेडखानी और टॉन्ट करना आम बात है।
मोनिका बिसोया स्टूडेंट

लोगों को अपनी मानसिकता बदलनी होगी। साउथ दिल्ली तो देश की राजधानी दिल्ली की शान है और हैरानी की बात है कि यहीं लडकिया ज्यादा असुरक्षित है। लडकियों के रहन सहन या पहनावा को दोष देने की बजाए लोगों को अपना नजरिया बदलने की जरुरत है। महिलाओं से संबंधित जितने भी आपराधिक मामले होते है उसमें अक्सर लडकी को ही दोष दे दिया जाता है। लडकियां देर तक घर से बाहर रहें तो गलत, अपनी पसंद के कपडे पहने तो गलत। जिंस और छोटे कपडे पहनने वाली लडकियों के साथ ही नहीं सलावर कुर्ते पहनने वाली लडकियों के साथ भी छेड छाड की घटनाएं बहुत होती  है।
शुभा, स्टूडेंट, साउथ दिल्ली

मैं यहां पद्म श्री गीता चंद्रन से नृत्य की शिक्षा ले रही हूं। मैं साउथ दिल्ली में रहती हूं। पब्लिक प्लेसेज पुरूष या लडके देखकर अजीब इशारे करते हैं और आपस में हंसते हैं। हालांकि पहले लैंग्वेज समझ नहीं आती थी, पर यहां रह कर मैंने हिंदी सिखा। अब काफी बातें मैं समझती हूं। इंडिया बहुत अच्छा है, यहां बहुत से लोग काफी हेल्पिंग हैं। लेकिन अधिकतर लोग यहां महिलाओं का सम्मान नहीं करते।
साउथ अमेरिका, कोलंबिया श्रद्घा दासी

प्रधानमंत्राी नरेंद्र मोदी ने मन की बात में कहा था बेटों से भी तो पुछो। हर बात के लिए लडकियों को दोष देने की बजाए पुरूष को अपना नजरिया भी बदलने की जरूरत है। घर में बचपन से उसे महिलाओं का सम्मान करने की सिख मिलनी चाहिए। उन्हें समझना चाहिए कि जिस तरह उनके घर की महिलाएं हैं। वैसे ही और महिलाएं भी हैं।
कमलजीत सहरावत, महिला मोर्चा, भारतीय जनता पार्टी

वूमेन हेल्पलाइन नंबर
पुलिस स्टेशन         हेल्पलाइन नंबर
Þ1 हौज खास         26566564
2 साकेत             29564560
3 मालवीय नगर      26692505
4 डिफेंस कॉलोनी    26250100
5 लोधी कॉलोनी     24625200
6 वसंत विहार       26155198
7 वसंत कुंज नॉर्थ    26123835
8 वसंत कुंज साउथ  261238546
9 आरकेपुरम        26100181
1Ñ0 सरोजनी नगर    24673283
11 साउथ कैंपस    26170181
12 मेहरौली         26646446

साउथ दिल्ली के उपनगर
आरकेपूरम
हौजखास
डिफेंस कॉलोनी
कालका जी
लाजपत नगर
ग्रेटर कैलाश
चाणाक्यपुरी
वसंत विहार

Leave a Reply