शोहरत के बुलंदियों से गुमनामी का सफर

0
1152
views



फिल्म नगरी की चकाचौंध और ग्लैमर के पीछे के अकेलेपन और कुंठा ने न जाने कितनों की जान ले ली. अपने जमाने में लोगों के दिलों पर राज करने वाले ये सितारे करियर के एक मुकाम पर पहुंचकर तन्हा ही रह गए. चाहें वो अभिनेता मर्लिन ब्रांडो, राबर्ट डी नीरो, विख्यात अभिनेत्री ग्रेटा गाबरे ने हों या अपने जमाने के सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्रियों में शुमार साधना, नंदा, सुचित्रा सेन हों. इन्हीं की तरह अपने लिए अकेलेपन और तन्हाई की राह चुनी अपने जमाने में बला की खुबसूरत अभिनेत्री और गायिका नलिनी जयवंत ने.

अभिनेत्री नलिनी जयवंत अपने जमाने की सफलतम अभिनेत्री शोभना समर्थ के मामा की बेटी थी. फिल्मों में नलिनी का आना एक संयोग था. कहते हैं कि कुछ लोगों की किस्मत खुद उनतक चलकर आती है. नलिनी जयवंत भी उन्हीं खुशकिस्मत लोगों में से थी. हिंदी सिनेमा के शुरुआती दौर के निर्माता-निदेशकों में से एक चमनलाल देसाई और उनके बेटे वीरेंद्र देसाई थे. वे दोनों एक दिन फिल्म देखने सिनेमाहॉल गए. शो के दौरान दोनों की नज़र एक बला की खुबसूरत लड़की पर पड़ी, जो भीड़ में भी अलग दिख रही थी. उस समय नलिनी की उम्र 13-14 बरस थी. देसाई बाप-बेटे ने इस लड़की में अपनी आने वाली फिल्म कि हिरोइन की झलक देख ली. वह अपनी आने वाली फिल्म और हिरोइन को लेकर खयालों में खोए हुए थे कि फिल्म खत्म हो गई और वह लड़की अपने परिवार के साथ ग़ायब हो गई. सच ही कहते हैं कि किसी चीज को पूरी सिद्दत से चाहों तो पूरी कायनात उसे तुमसे मिलाने में लग जाती है. ऐसा ही चमनलाल और विरेंद्र देसाई के साथ हुआ. एक दिन विरेंद्र देसाई अभिनेत्री शोभना समर्थ से मिलने उनके घर पहुंचे वहां उन्होंने नलिनी को देखकर उनकी
खुशी का ठिकाना न था, उन्होंने उसी वक्त नलिनी के सामने अपनी फिल्म में बतौर अभिनेत्री काम करने का प्रस्ताव रख दिया. अपनी स्टार बहन शोभना समर्थ से प्रभावित नलिनी को खुशी का ठिकाना न था. डर था तो पिता से जो फिल्मों के  सख्त विरोधी थे. देसाई ने उन्हें बहुत सारे पैसे और नलिनी के सुनहरे भविष्य का हवाला देकर मना लिया. उस समय नलिनी के परिवार तंगहाली में जी रहा था.

वीरेंद्र देसाई के  निर्देशन में नलिनी की पहली फिल्म राधिका 1941 में रिलीज़ हुई. इस फिल्म के अन्य कलाकार थे हरीश, ज्योति, कन्हैयालाल, भुड़ो आडवानी. इस फिल्म के 10 में से 7 गीतों में नलिनी जयवंत की आवाज़ थी. इस फिल्म से नलिनी सितारा घोषित कर दी गईं. नलिनी ने इसके बाद पीछे मुडकर नहीं देखा. अगली फिल्म बहन महबूब ख़ान के निर्देशन में बनी. नलिनी के साथ इस फिल्म में थे शेख मुख्तार और बेबी मीना कुमारी. इस फिल्म में नलिनी ने 4 गीत गाए थे. इनमें से वजाहत मिर्जा के लिखे गीत मनहीं खाते हैं भैया मेरे पान, काफी लोकप्रिय हुआ. इसी साल वीरेंद्र देसाई के निर्देशन में फिल्म निर्दोष भी आई, इसमें मुकेश नायक की भूमिका में थे. उनकी अगली फिल्म आंख मिचौली उनके लिए मिल का पत्थर साबित हुई. उस समय नलिनी स्कूल की छात्रा थीं.

निर्देशक विरेंद्र देसाई उनकी खूबसूरती ऐसे कायल हुए कि उन्होंने न सिर्फ पहली ही नजर में अपने फिल्म की हिरोइन चुन लिया बल्कि अपना दिल भी हार बैठे. साथ काम करते दोनों में प्यार हो गया और दोनों ने शादी भी कर ली. उस दौर के एक लेखक ने कहा था: जब ये हंसती हैं तो मालूम होता है कि जंगल की ताज़गी में जान पड़ गई और नौ-शगुफ्ता कलियां फुल बनकर रुखसारों की सूरत में तब्दील हो गई हैं. नलिनी जयवंत ने आंख मिचौली खेलते-खेलते मिस्टर वीरेंद्र देसाई से दिल मिचौली खेलना शुरू कर दिया और यह खेल अब बाकायदा शादी की कंपनी से फिल्माया जाकर जिंदगी के पर्दे पर दिखलाया जा रहा है. लेकिन शादी का यह बंधन बहुत दिन न चल सका. जल्द ही दोनों का तलाक हो गया. उन्होंने दुबारा घर बसाया अपने सह कलाकार प्रभू दयाल से.

बनते बिगड़ते रिश्तों के बीच 1950 में वह अशोक कुमार के साथ फिल्म समाधि और संग्राम में आई. यह फिल्म एकबार फिर नलिनी को बुलंदियों पर ले गई. इसके पहले 1948 रीलीज दिलीप कुमार और नरगिस के साथ उनकी फिल्म आई इस फिल्म में इन दोनों के मुकाबले नलिनी की काफी सराहना हुई. दो फिल्मों के बाद उन्हें स्टार कलाकारों  में गिना जाने लगा. नलिनी और अशोक कुमार को पर्दे पर दर्शकों ने काफी पसंद किया. दोनों का नाम साथ जोड़ा जाने लगा. अशोक कुमार ने चैबूर के यूनियन पार्क इलाके में नलिनी जयवंत के घर के सामने बंगला भी ले लिया, जहां वे आख़िरी दिनों में रहे. इस जोड़ी ने काफिला, नौबहार, सलोनी, मिस्टर एक्स और शेरू में साथ काम किया. फिल्म अनोखा प्यार के बाद नलिनी जयवंत को सबसे बड़ी अदाकारा का दर्जा दिया जाने लगा. अनोखा प्यार के अलावा शिकस्त (1953) और देव आनंद के साथ राही (52), मुनीमजी (55) और काला पानी(58) जैसी कामयाब फिल्में कीं. फिल्म काला पानी में किशोरी बाई की भूमिका के लिए नलिनी जयवंत को सर्वश्रेष्ठ सह-अभिनेत्री का पुरस्कार भी मिला. इस फिल्म में उस जमाने की सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री मधुबाला के होते हुए उनके सौंदर्य और अभिनय की सराहना हुई. अपनी बेहतरीन फिल्म काला पानी के बाद से नलिनी ने फिल्मों में काम करना लगभग बंद कर दिया था. हालांकि रिश्तों के दबाव में दो फिल्में और की बॉम्बे रेसकोर्स (1965) और नास्तिक (1983). नास्तिक में उन्होंने सुपरस्टार अमिताभ बच्चन की मां की भूमिका निभाई थी.

नलिनी जयवंत पर कई दिल को छु लेने वाले यादगार गाने फिल्माए गए. उनमें से कुछ हैं, ठंडी हवाएं, लहरा के आएं (नौजवान 51), कारे बदरा तू न जा, न जा (शिकस्त 53), आ कि अब आता नहीं दिल को क़रार/राह तकते थक गया है इंतज़ार (महबूबा 54), तेरे फुलों से भी प्यार, तेरे कांटों से भी प्यार (नास्तिक 54), नजर लागी राजा तोरे बंगले पर, गोरे गोरे ओ बाके छोरे, घायल हिरनिया मैं बन-बन डोलूं (मुनीमजी 55), हाए जिया रोए (मिलन-58), जीवन के सफर में राही, मिलते हैं बिछड़ जाने को/और दे जाते हैं यादें, तन्हाई में तड़पाने को (फिल्म मुनीमजी).

अशोक कुमार के प्रति उन्हें आत्मिक अनुराग था. तभी दोनों के संबंध अरसे तक बने रहे. लेकिन न जाने ऐसा क्या हुआ कि उनके प्रेम में उनके घर के सामने घर बसाने वाले अशोक कुमार से भी उन्होंने मिलना छोड़ दिया और खुद को अपने ही घर में कैद कर लिया. गुमनामी की जिंदगी जी रही नलिनी की की मौत की खबर 21 दिसंबर 2010 को आई. तीन दिन पहले नलिनी का देहांत हो चुका था इस बात की खबर उनकी पडोसियों की भी नहीं हुई. पडोसियों ने उनके घर से एक चौकीदार को शव गाड़ी में ले जाते देखा. बाद में संदीप जयवंत नाम के एक व्यक्ति का बयान आया कि वह नलिनी जयवंत का भतीजा है और उसने उनकी इच्छा के अनुसार चुपचाप उनका दाह-संस्कार कर दिया है. हर इंसान की इच्छा होती है कि वह उसकी मौत उसके अपनों के बीच हो. नलिनी के प्रसंशकों और चाहने वालों का बडा दायरा था, लेकिन उनकी मौत पर आंसू बहाने वाले उनके दो पालतू कुत्ते थे. जो उनकी मौत के बाद बेघर हो गए. मुनीमजी फिल्म का गाना, जीवन के सफर में राही, मिलते हैं बिछड़ जाने को/और दे जाते हैं यादें, तन्हाई में तड़पाने को यही उनकी असल कहानी भी थी.

Leave a Reply