फोटो सेव करना अब मुश्किल नहीं

0
690
views
icloud_iphone-600x300

फोन की ममोरी की भी एक लिमिट है। आखिर कोई कितने फोटो और कितने विडियोज एक फोन में रखे। काफी सारे ऐसे फोन हैं जो अतिरिक्त स्टोरेज नहीं देते और पर्सनल कंप्यूटर पर भी इन तस्वीरों को रखना काफी रिस्की हो सकता है। लेकिन अब आपको परेशान होने की जरूरत नहीं क्योंकि अब आप आसानी से क्लाउड स्टोरेज में अपने डेटा सेव कर सकते हैं। 

इसके लिए आप याहू और एपल की मदद ले सकते हैं। याहू का फ्लिकर और एपल का आइक्लाउड फोटो लाइब्रेरी आॅटोमेटिक ही आपके आॅनलाइन अकाउंट पर फोटोज व विडियोज ट्रांसफर कर देगा, जिससे आप अपने डिवाइस में ज्यादा स्पेस के साथ बैकअप पा सकते हैं।

फ्लिकर
फ्लिकर 1 टेराबाइट का अनलिमिटेड आॅनलाइन स्टोरेज बिल्कुल या अगले 60 वर्षों तक प्रतिदिन करीब 5 तस्वीरों के लिए स्पेस मुफ्त दे रही है। याहू ने इस महीने टूल्स रिलीज किया जिससे आॅटोमेटिक ही इमेज ट्रांसफर हो सके।

आइफोंस, आइपैड़स और एंड्रायड डिवाइसेज के लिए फ्लिकर के नये एप के साथ पुराने और नये इमेजेस आॅटोमैटिक ही आपके आॅनलाइन अकाउंट में कॉपी हो जाएंगे। अपने फोन से आॅरिजिनल फाइल्स को डिलीट कर स्पेस खाली करें। इसके बाद भी आप फ्लिकर के एप की मदद से इमेज को एडिट व शेयर कर सकते हैं और फ्लिकर से कभी भी आॅरिजिनल फाइल्स ले सकते हैं। इस बीच विंडोज व मैक के लिए फ्लिकर के सॉफ्टवेयर तस्वीरों को स्कैन व अपलोड करते रहेंगे। वेब ब्राउजर या फ्लिकर के मोबाइल एप के माध्यम से सभी फोटोज व विडियोज को एक कलेक्शन में देखा जा सकता है। सबसे नया इमेज टॉप पर होगा, लेकिन आप फ्लिकर के मैजिक व्यू के अंतर्गत स्मार्ट सार्टिंग टूल्स का उपयोग कर सकते हैं। यह सॉफ्टवेयर तस्वीरों को उनके थीम जैसे फूल, भोजन आदि के आधार पर वगीर्कृत करता है। इसका सर्च टूल आपको तस्वीर के रंग जैसी विशेषता व इमेज के ओरिएंटेशन के आधार पर फिल्टर करने में मदद करता है। स्पेस को खाली करने के लिए आपको अपने फोन में फ्लिकर आने के बाद फाइल्स डिलीट करनी होगी, जिसका मतलब है कि आपको यह ट्रैक करना होगा की कौन सी फाइल्स ट्रांसफर हो चुकी हैं। साथ ही फ्लिकर पिपुल शॉट्स के आधार पर वर्गीकरण कर सकती है। यादि आपकी तस्वीरों के संग्रह में बड़ी साइज की तस्वीरें हैं तो यह कुछ दिन या हफ्तों का समय ले सकता है।

आइक्लाउड फोटो लाइब्रेरी
गत माह लांच हुए, आइक्लाउड फोटो लाइब्रेरी से एपल ने आपके फोटो कलेक्शन को आॅनलाइन करने का नया रास्ता देते हुए गत माह आइक्लाउड फोटो लाइब्रेरी लांच किया। यह मैक व मोबाइल डिवाइसेज पर उन तस्वीरों को आगेर्नाइज व एडिट करने में मदद करता है। एपल फुल रेजयूोलूशन वर्जन को आॅनलाइन रखता है और जब भी आपको जरूरत हो आॅरिजिनल वापस मिल जाएगा। यह आॅटोमैटिक है इसलिए आपको आॅरिजिनल व अन्य इमेजेस को डिलीट करने की जरूरत नहीं।

एपल डिवाइसेज
आइफोंस, आइपैड्स और मैक्स पर आप सीमित होते हैं और एकबार जब आप 5 गीगाबाइट स्टोरेज या 3000 तस्वीरों तक पहुंचते हैं, आपको शुल्क देना होता है, 20 गीगाबाइट के लिए 99 सेंट प्रतिमाह। मैक और आइओएस आॅपरेटिंग सिस्टम्स के साथ आने वाले फोटोज एप्स में आइक्लाउड लाइब्रेरी बना होता है। यहां अलग से कोई भी डाउनलोड नहीं है, केवल आपको लेटेस्ट सिस्टम अपडेट करना होगा। बस जरूरत होने पर आपको केवल इस फीचर को आॅन करना होगा।

अन्य के लिए
गूगल के आॅटो बैकअप और अमेजन के क्लाउड ड्राइव के साथ आपको पीसी की तस्वीरें मैनुअली अपलोड करनी होंगी। आॅटोमैटिक ट्रांसफर केवल एपल व एंड्रायड फोंस के लिए है। कम रेज्योलूशन वाली तस्वीरों के लिए गूगल मुफ्त में अनलिमिटेड स्टोरेज देता है। अपने 99 डॉलर प्रति वर्ष सर्विस के सदस्यों के लिए अमेजन का क्लाउड ड्राइव 12 डॉलर प्रति वर्ष में उपलब्ध है। यह आपको अनलिमिटेड फोटो स्टोरेज देता है और यदि आप अनलिमिटेड विडियो स्टोरेज भी चाहते हैं तो उसके लिए अलग से एक वर्ष के लिए 60 डॉलर की कीमत अदा करनी होगी। इन सभी सर्विसेज से आपकी तस्वीरें निजी रहेंगी यानि केवल आपकी आंखों के लिए।
फ्लिकर ही अकेला ऐसा सर्विस है जो मल्टीपल सिस्टम्स के साथ उपयुक्त है और पूरी तरह से मुफ्त भी। पर यदि आपके पास एपल डिवाइस है तो आइक्लाउड फोटो लाइब्रेरी के लिए पैसे देने में न हिचकें क्योंकि यह उपयोग के लिए काफी आसान है।

Leave a Reply